रविवार, 1 दिसंबर 2013

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2013- शुभकामनाएँ एवं निबंध पत्र हेतु सुझाव

कल से सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की शुरुआत हो रही है | सबसे पहले मैं इस परीक्षा में शामिल हो रहे प्रतिभागियों को ढेर सारी शुभकामनाएँ देता हूँ और उनकी सफलता की दुआ करता हूँ | फिर कुछ आखिरी घड़ी की नसीहतें, अनुभव उनके साथ बांटना चाहूँगा |

सिविल सेवा में सफलता के लिए मुख्य परीक्षा को अच्छे अंकों से पास करना  एक तरह से निर्णायक भूमिका निभाता है | परीक्षा की इन आखिरी घड़ियों में अच्छी-से अच्छी तैयारी के बावजूद छात्र दवाब में होते हैं | 'क्या छोडू, क्या दुहराऊ' की दुविधा होती है | अपनी तैयारी के बारे में संशय होता रहता है | इस समय के लिए मेरा सुझाव यही होगा कि अपनी तैयारी के बारे में आत्मविश्वस्त रहे | महत्वपूर्ण विषयों का दोहराव करे और परिणाम की चिंता से अपने आपको दवाब में न डाले |

कल का पहला पेपर निबंध का है | इस वर्ष से निबंध के पत्र को काफी महत्त्व दिया गया है और इसके अंक बढाकर 250 कर दिए गए हैं | ऐसे में या तो 250 अंक का  एक निबंध या फिर 125 अंक के  दो निबंध लिखने को कहा जा सकता है | इस पत्र के लिए कुछ सुझाव ध्यान रखें -
* शब्द सीमा- 250 अंक के निबंध के लिए लगभग 2000 से 2500 शब्दों का निबंध लिखे |
*परीक्षा भवन के तीन घंटे में 30 मिनट का समय निबंध के विषय के चयन और उसकी रूपरेखा तैयार करने में लगाये | उत्तर पुस्तिका के आखिरी पन्ने में रफ़ में निबंध के विषय में अपने सारे ज्ञान और विचारों को क्रम बद्ध करके लिख ले | अंत में दस से पंद्रह मिनट का समय निबंध को दुहराने और भाषा या व्याकरण की गलतियों को सुधरने के लिए रखे |
*निबंध की शुरुआत आकर्षक और विषयानुकूल होनी चाहिए | अपनी मौलिकता और कल्पनाशक्ति को यहाँ अच्छे से प्रयोग करे |
*निबंध के मुख्य भाग में विषय को विस्तार दे और क्रमबद्ध तरीके से अपनी बात रखे |
*उपसंहार में अपनी बातों को तार्किक निष्कर्ष तक पहुचाये  और निबंध के निचोड़ को संक्षेप में सामने रखे |
*भाषा सहज-सरल और प्रवाहमयी हो |
*समसामयिक उदाहरणों, प्रेरक प्रसंग, प्रासंगिक लघुकथा, काव्यांश, सूक्ति-उद्धरण का समुचित प्रयोग करे | इनका प्रयोग निबंध के प्रवाह और प्रभाव को बढ़ाने वाला होना चाहिए | ऐसा नहीं लगना चाहिये की आप अपने पांडित्य का प्रदर्शन करने के लिए इन्हें ठूंसे जा रहे हैं |
*विवादस्पद विषय में संतुलित विचार रखे - विषय के दोनों पक्षों को सामने रखकर फिर अपने निष्कर्ष तर्क सहित रखे |
*संवैधानिक मूल्यों और देश के प्रति प्रेम और आदर का ध्यान रखे | आपके निबंधों का स्वर और निष्कर्ष नकारात्मक न हो, इसका भी ख्याल रखे | यदि आप किसे ऐसे विषय के बारे में लिख रहे हो जहाँ वर्तमान परिदृश्य बिलकुल नकारात्मक है, वहां भी सुधार कैसे लाया जा सकता है, उसको प्रधानता दे |

आप सबों को मेरी तरफ से ढेर सारी शुभकामनाएँ |

केशवेन्द्र कुमार, आईएएस

12 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Sir nmaste
    Dhanywad apka hmara margdarsan krne ki khatir
    Sir mje ek smasya naye jure ethics k paper pr.agr ap apna bhumulya sujhao de paye to m aapka aabhari rhunga

    उत्तर देंहटाएं
  3. Sir bharat ki rajyavyavstha 4th edition ki mil rahi h 3rd edition nhi mil rha h kya lelena chahiye mujhe jarur apna uttar dijiye

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रकाश आप इस पुस्तक का सबसे नया उपलब्ध संस्करण ले सकते है |

      हटाएं
  4. Sir, pranam. Sir m civil service ki tayari karna chahta hu. Me abhi btech kr rha hu or meri 12th class tak ki padai hindi medium se hue h.to sir mere lye kon sa medium sahi rahega.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभम, आपको दोनों माध्यमों में अपनी क्षमता का निष्पक्ष मूल्यांकन करते हुए यह निर्णय स्वयं लेना होगा |

      हटाएं
  5. Hindi nibandh ke practice ke liye koi achi book bataye. . .

    उत्तर देंहटाएं
  6. Dear sir i m glad here to see ur blog for appriciat to upsc hindi medium aspirants. My medium is hindi also.sir i hv a problem realted to eassy writing. Ectually i m nill in essay writing and i hav no idea abt good essay writing. Plz sir giud me for effective essay writing.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. नमस्कार सर, मै civil services की तैयारी कर रहा हूँ पर सही मार्ग दर्शन के अभाव मे कुछ समझ नही आ रहा क्या पढना चाहिये और कैसे,
    कृपया उचित मार्ग दर्शन प्रदान करें।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं