बुधवार, 11 दिसंबर 2013

हिंदी माध्यम में सिविल सेवा की स्तरीय किताबों की तलाश

सिविल सेवा की तैयारी हिंदी माध्यम से करने वाले अभ्यर्थियों के सामने सबसे बड़ा सवाल किताबों की उपलब्धता का होता है | सामान्य अध्ययन के लिए तो अब ढेर सारी स्तरीय पुस्तकें उपलब्ध हैं मगर वैकल्पिक विषय में अच्छी किताबों के चयन में छात्रों को परेशानी आती है | वैसे भी अच्छी पुस्तकें तलाशनी पड़ती है | एक ही विषय पर उपलब्ध ढेर सारी किताबों में से आपके लिए कौन सबसे अच्छी रहेगी, ये तो आपको खुद ही जांचना-परखना पड़ेगा |

इस आलेख में मैं आपके साथ हिंदी माध्यम में उपलब्ध विभिन्न प्रकाशनों की स्तरीय किताबें शेयर करने की विनम्र कोशिश कर रहा हूँ | हिंदी माध्यम में उपलब्ध पुस्तकों की विषयवार सूची का अभाव इस आलेख की प्रेरणा है | आप सभी अभ्यर्थी भी विषयवार पुस्तकों के बारे में अपने सुझाव और अनुभव यहाँ बांट सकते हैं |

साथ ही आप सबों को मेरी सलाह रहेगी कि पुस्तक मेलों और अपने आस-पास उपलब्ध अच्छे पुस्तकालयों का जमकर प्रयोग करें | एक ही विषय पर दो-तीन लेखकों को पढना आपके ज्ञान और विचार को गहराई और गंभीरता देगा |

१. हिंदी माध्यम क्रियान्वयन निदेशालय की पुस्तकें -
दिल्ली विश्वविद्यालय के इस अंग ने हिंदी माध्यम में स्तरीय पुस्तकें उपलब्ध करने में अहम् भूमिका निभायी है | मानविकी के लगभग सारे विषयों में इनकी स्तरीय पुस्तकें उपलब्ध हैं | खासकर इतिहास और राजनीति शास्त्र विषय में इनकी पुस्तकों का जवाब नहीं |
इनकी नई पुस्तक सूची के लिए इस लिंक को खोले-
http://www.du.ac.in/index.php?id=110

इस प्रकाशन की सबसे उल्लेखनीय पुस्तकें हैं-
इतिहास वैकल्पिक विषय
आधुनिक विश्व का इतिहास - लालबहादुर वर्मा
प्राचीन भारत का इतिहास - झा एवं श्रीमाली
मध्यकालीन भारत भाग एक एवं दो- संपादक हरिश्चंद्र वर्मा
आधुनिक भारत का इतिहास- संपादक रामलखन शुक्ल
(इतिहास खंड की अन्य पुस्तकें भी इस विषय की गहन तैयारी के लिए देखी जा सकती है |)
राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय हेतु 
राजनीति सिद्धांत -संपादक ज्ञान सिंह संधू
बदलती दुनिया में भारत की विदेश नीति भाग एक एवं दो - वी पी दत्ता
भारत में उपनिवेशवाद एवं राष्ट्रवाद- संपादक हिमांशु राय
संयुक्त राष्ट्र संघ - नीना शिरीष
नारीवादी राजनीति- संघर्ष एवं मुद्दे - संपादक- साधना, विवेदिता एवं जिनी
पाश्चात्य राजनीतिक चिंतन - सुब्रत मुख़र्जी एवं सुशीला रामास्वामी
भारतीय संसद-समस्याएँ एवं समाधान - सुभाष कश्यप
सामान्य अध्ययन हेतु
आजादी के बाद का भारत - विपिन चन्द्र, मृदुला मुख़र्जी, आदित्य मुख़र्जी

२. इग्नू की BA एवं MA की पुस्तकें
 सिविल सेवा के वैकल्पिक विषयों की हिंदी माध्यम में तैयारी के लिए इग्नू के पुस्तकों की महत्ता सर्वविदित है | विषय विद्वानों की उत्कृष्ट टीम द्वारा तैयार किये गए इनकी किताबें सिविल सेवा की तैयारी के बिंदु से काफी महत्त्वपूर्ण है | साथ ही हर विषय की पुस्तिका में उस विषय के सारे उत्कृष्ट सन्दर्भ ग्रंथों की सूची उपलब्ध है | इग्नू की पुस्तकें आप इग्नू के दिल्ली ऑफिस से खरीद सकते हैं | इग्नू की पुस्तकें पीडीऍफ़ फॉर्मेट में इन्टरनेट पर फ्री उपलब्ध है | लिंक है -
http://www.egyankosh.ac.in/

3. एस. चाँद प्रकाशन की पुस्तकें -
 इस प्रकाशन ने सामान्य अध्ययन और सी सैट पेपर के लिए हिंदी माध्यम में काफी अच्छी पुस्तकें प्रकाशित की है | यशपाल एवं ग्रोवर की 'आधुनिक भारत का इतिहास' जैसी पुस्तकों ने तो वाकई इतिहास ही रचा है | पुस्तक सूची के लिए लिंक देखे -
http://www.schandgroup.com

सामान्य अध्ययन हेतु-
आधुनिक भारत का इतिहास - यशपाल एवं ग्रोवर
सरल अंकगणित- आर एस अग्रवाल
भारतीय अर्थव्यवस्था - अश्विनी महाजन एवं गौरव दत्त
हिंदी भाषा एवं साहित्य पत्र हेतु -
हिंदी लोकोक्तियाँ एवं मुहावरे- बाबू  गुलाब राय


4. टाटा मैकग्रा हिल प्रकाशन -
 इस प्रकाशन की हिंदी माध्यम की पुस्तकें प्रारंभिक परीक्षा एवं मुख्य परीक्षा के सामान्य अध्ययन पत्र  की तैयारी के लिए काफी उपयोगी है | लक्ष्मीकांत की राज्यव्यवस्था एवं पुष्पेश पन्त की अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध जैसी काफी अच्छी पुस्तकें इस प्रकाशन ने दी है | पुस्तक सूची के लिए इस लिंक को देखे |
http://www.tmhshop.com/test-prep/civil-service-examination-hindi

सामान्य अध्ययन पत्र हेतु-
भारतीय शासन - एम लक्ष्मीकांत
भारत एवं विश्व का भूगोल - माजिद हुसैन
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का विकास - शीलवंत सिंह
21 वीं शताब्दी में अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध - पुष्पेश पन्त
भारत की विदेश नीति- पुष्पेश पन्त

लोक प्रशासन वैकल्पिक विषय हेतु
समग्र लोक प्रशासन - माहेश्वरी
21 वीं शताब्दी में लोक प्रशासन - दुबे
प्रशासनिक विचारधाराएँ- दुबे

राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय हेतु-
राजनीति विज्ञान - एन डी अरोरा

समाज शास्त्र वैकल्पिक विषय हेतु-
समाज शास्त्र - पांडे

भूगोल वैकल्पिक विषय हेतु-
भूगोल सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए- खुल्लर
भौगोलिक मानचित्रावली - हुसैन



५.उपकार  प्रकाशन की पुस्तकें -
 इस प्रकाशन की पत्रिका प्रतियोगिता दर्पण ने सिविल सेवा के हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों का लम्बे समय से मार्गदर्शन किया है | इस प्रकाशन की किताबें सामान्य अध्ययन पत्र के लिए काफी उपयोगी है |
http://upkar.in/books.aspx?SCID=29

भारतीय अर्थव्यवस्था अतिरिक्तांक
कला एवं संस्कृति अतिरिक्तांक

६. प्रकाशन विभाग की पुस्तकें -
 भारत सरकार के अधीन इस संस्थान की पत्रिकाएँ योजना और कुरुक्षेत्र सिविल सेवा की तैयारी के लिए अपरिहार्य है | साथ ही इसकी कुछ अन्य पुस्तकें जैसे 'आधुनिक भारत के निर्माता' श्रृंखला की पुस्तकें, संत कवि एवं गाँधी जी से जुडी पुस्तकें  सामान्य अध्ययन और निबंध पत्र के लिए उपयोगी है |
http://www.publicationsdivision.nic.in/Hindi/380HindiBooks.pdf


७. प्रतियोगिता साहित्य प्रकाशन -
 राजनीति विज्ञान, लोक प्रशासन, भूगोल, समाज शास्त्र, अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध जैसे विषयों पर इस प्रकाशन की पुस्तकें वैकल्पिक विषय की तैयारी के साथ सामान्य अध्ययन एवं निबंध पत्र की तैयारी के लिए भी काफी उपयोगी है |
http://www.psagra.in/product-category/iaspcs-mains-exam/ias-hindi/

सामान्य अध्ययन के लिए-
भारतीय शासन एवं राजनीति - फड़िया

राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय हेतु-
अंतर्राष्ट्रीय राजनीति - बी एल फडिया

लोक प्रशासन वैकल्पिक विषय हेतु
भारत में लोक प्रशासन - बी एल फडिया
भारतीय प्रशासन - बी एल फडिया

समाज शास्त्र वैकल्पिक विषय हेतु-
समाज शास्त्र - प्रो.एम एल  गुप्ता एवं डॉ डी डी शर्मा

भूगोल वैकल्पिक विषय हेतु-
भारत का बृहत् भूगोल -डॉ चतुर्भुज मामोरिया


८.  अरिहंत प्रकाशन 
 इस प्रकाशन ने सामान्य अध्ययन के प्रारंभिक पत्र के लिए कुछ अच्छी पुस्तकें प्रकाशित की है | इस प्रकाशन के द्वारा प्रकाशित प्रारंभिक परीक्षा के क्वेश्चन बैंक अवश्य खरीदने योग्य है |
http://www.arihantbooks.com/Store/1/5/Entrance-Exam/Civil-Services

९. सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल 
 इस प्रकाशन की पत्रिका सिविल सेवा की तैयारी के लिए काफी उपयोगी है | इस प्रकाशन की कुछ पुस्तकें भी सामान्य अध्ययन पत्र की तैयारी के लिए काफी महत्तवपूर्ण है | इस प्रकाशन के हल किये हुए मुख्य परीक्षा के क्वेश्चन बैंक अवश्य खरीदने योग्य  है | सिविल सर्विसेज प्लानर भी नए अभ्यर्थियों के लिए उपयोगी है |
http://www.chronicleindia.in/our-books

10. पुस्तक महल -
 इस प्रकाशन की हिंदी माध्यम की कुछ पुस्तकें सामान्य अध्ययन पत्र तथा आपकी हॉबी  की तैयारी के लिए उपयोगी है | हालाँकि काफी सतर्क चयन की जरुरत है क्योंकि किताबों की भरमार से उपयोगी किताब ढूँढने में काफी श्रम लगता है |
http://www.pustakmahal.com/books/

११. स्पेक्ट्रम प्रकाशन -
इस प्रकाशन की पुस्तकें सामान्य अध्ययन पत्र के लिए उपयोगी है |
http://spectrumbooks.in/books/hindi/

१२. कम्पीटीशन सक्सेस रिव्यु -
 इस प्रकाशन की पत्रिका निबंध एवं साक्षात्कार की तैयारी के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण है | साक्षात्कार के लिए इस प्रकाशन की पुस्तक काफी अच्छी है |
http://www.competitionreview.in/publication.php

१३. वाणी प्रकाशन
 निबंध पत्र के लिए इस प्रकाशन की पुस्तकें काफी उपयोगी है |
http://vaniprakashanblog.blogspot.in/

१४. राजकमल प्रकाशन
 हिंदी साहित्य और निबंध पत्र की तैयारी के लिए काफी उपयोगी पुस्तकें उपलब्ध |
http://www.rajkamalprakashan.com/

१५. साहित्य अकादमी -
हिंदी साहित्य के विद्यार्थियों के लिए इस प्रकाशन की पुस्तकें विशेषकर 'साहित्य निर्माता' सीरीज की पुस्तकें काफी काम की है |
http://sahitya-akademi.gov.in/

16. जवाहर पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रिब्यूटर्स
लोक प्रशासन
- लोक प्रशासन के नए आयाम - मोहित भट्टाचार्य
http://www.jawahar-book-centre.com/

17. बिहार हिंदी ग्रन्थ अकादमी
बिहार हिंदी ग्रन्थ अकादमी का एक गौरवशाली इतिहास रहा है | हिंदी भाषा में मौलिक पुस्तकें प्रकाशित करने में यह संस्था अग्रगण्य रही है | वर्तमान थोडा ढीला-ढाला है और अपनी गौरवशाली परम्परा की छाया भर नजर आता है | खैर, इस अकादमी के पुराने प्रकाशन भी यदि अद्यतन किये जाये और विद्यार्थियों को मिलते रहे, वह भी काफी महत्तवपूर्ण है |
अकादमी की संपूर्ण पुस्तक सूची इस लिंक पर उपलब्ध है-
http://bhga.co.in/booklist.php
इस अकादमी के द्वारा प्रकाशित पुस्तकों में हिंदी भाषा एवं  साहित्य, राजनीति एवं लोक प्रशासन, दर्शनशास्त्र , कृषि विज्ञान , पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान, रसायन शास्त्र , अर्थशास्त्र , वाणिज्य एवं लेखाविधि, मनोविज्ञान, समाजशास्त्र, प्राणी विज्ञान की पुस्तकें सिविल सेवा के वैकल्पिक विषय के पत्र की तैयारी में  उल्लेखनीय हैं |

१८. उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान -
यह भी गौरवशाली इतिहास वाला संस्थान रहा है | कभी- कभी तो लगता हैं की इन संस्थाओं के कालक्रमेण ह्रास ने हिंदी भाषा को क्षति पहुचाई है | खैर, अभी भी वक्त है की इन संस्थाओं पर ध्यान देकर इन्हें हिंदी भाषा में उत्कृष्ट पुस्तकों को सर्वसुलभ बनाने का केंद्र बनाया जाए |
http://uphindisansthan.in/Sales/BookList.htm


१९. मध्य प्रदेश हिंदी ग्रन्थ अकादेमी -
http://mphindigranthacademy.org/Book/Frm_Book_BookPublication.aspx
दर्शनशास्त्र, राजनीतिविज्ञान , समाजशास्त्र, लोक प्रशासन,  विधि, भूगोल, कृषि, पशुपालन तथा पशु चिकित्सा विज्ञान आदि वैकल्पिक विषयों के लिए शानदार पुस्तकों का संग्रह |

२०. राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी-
http://www.rajhga.com/zz/ZlistBooks.aspx
हिंदी भाषा और साहित्य वैकल्पिक विषय, दर्शन, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, भौतिकी, सांख्यिकी, गणित, रसायन शास्त्र, कृषि विज्ञान, पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान इन वैकल्पिक विषयों की तैयारी में संस्थान की पुस्तकें उपयोगी हैं |

२१. मोतीलाल बनारसीदास प्रकाशन-
http://www.mlbd.com/Admin/Catalogue/Catalogue.pdf
दर्शनशास्त्र, इतिहास, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, संस्कृत भाषा एवं साहित्य,आयुर्विज्ञान जैसे वैकल्पिक विषयों के लिए यह रामबाण प्रकाशन है | पुस्तकों की गुणवत्ता के मामले में यह एक बहुत ही सजग प्रकाशन है |

साथियों, हिंदी माध्यम में सिविल सेवा की तैयारी के लिए पुस्तकें प्रकाशित करने वाले प्रमुख प्रकाशकों की प्रारंभिक सूची मैंने आप लोगों के सामने अपने सीमित ज्ञान के आधार पर रखी है | कुछ अन्य महत्तवपूर्ण प्रकाशन जो यहाँ आने से रह गए हैं, उन्हें मैं  धीरे-धीरे विस्तृत विवरण के साथ आप लोगों के सामने लाने की कोशिश करूँगा | साथ ही सारे प्रकाशनों से सबसे अच्छी पुस्तकों के बारे में भी थोड़े और विस्तार से लिखूंगा | आप लोगों से भी अनुरोध है की आप अपने सुझाव भेजे |  हिंदी साहित्य के वैकल्पिक पत्र के लिए ढेर सारे साहित्यिक प्रकाशन हैं जिनकी चर्चा मैं अपने एक अलग आलेख में करूँगा |

हंस की तरह नीर-क्षीर विवेक से अपने लिए सबसे उत्तम पुस्तकों का चयन करे | अगर आपने अच्छी पुस्तकों को अपना मित्र बनाया तो जीवन भर सफलता आपकी संगिनी बनी रहेगी और आप जीवन के हर पड़ाव से हँसते-मुस्कुराते गुजरेंगे |

सफलता की शुभकामनाओं के साथ,
केशवेन्द्र कुमार, आईएएस

रविवार, 1 दिसंबर 2013

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2013- शुभकामनाएँ एवं निबंध पत्र हेतु सुझाव

कल से सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की शुरुआत हो रही है | सबसे पहले मैं इस परीक्षा में शामिल हो रहे प्रतिभागियों को ढेर सारी शुभकामनाएँ देता हूँ और उनकी सफलता की दुआ करता हूँ | फिर कुछ आखिरी घड़ी की नसीहतें, अनुभव उनके साथ बांटना चाहूँगा |

सिविल सेवा में सफलता के लिए मुख्य परीक्षा को अच्छे अंकों से पास करना  एक तरह से निर्णायक भूमिका निभाता है | परीक्षा की इन आखिरी घड़ियों में अच्छी-से अच्छी तैयारी के बावजूद छात्र दवाब में होते हैं | 'क्या छोडू, क्या दुहराऊ' की दुविधा होती है | अपनी तैयारी के बारे में संशय होता रहता है | इस समय के लिए मेरा सुझाव यही होगा कि अपनी तैयारी के बारे में आत्मविश्वस्त रहे | महत्वपूर्ण विषयों का दोहराव करे और परिणाम की चिंता से अपने आपको दवाब में न डाले |

कल का पहला पेपर निबंध का है | इस वर्ष से निबंध के पत्र को काफी महत्त्व दिया गया है और इसके अंक बढाकर 250 कर दिए गए हैं | ऐसे में या तो 250 अंक का  एक निबंध या फिर 125 अंक के  दो निबंध लिखने को कहा जा सकता है | इस पत्र के लिए कुछ सुझाव ध्यान रखें -
* शब्द सीमा- 250 अंक के निबंध के लिए लगभग 2000 से 2500 शब्दों का निबंध लिखे |
*परीक्षा भवन के तीन घंटे में 30 मिनट का समय निबंध के विषय के चयन और उसकी रूपरेखा तैयार करने में लगाये | उत्तर पुस्तिका के आखिरी पन्ने में रफ़ में निबंध के विषय में अपने सारे ज्ञान और विचारों को क्रम बद्ध करके लिख ले | अंत में दस से पंद्रह मिनट का समय निबंध को दुहराने और भाषा या व्याकरण की गलतियों को सुधरने के लिए रखे |
*निबंध की शुरुआत आकर्षक और विषयानुकूल होनी चाहिए | अपनी मौलिकता और कल्पनाशक्ति को यहाँ अच्छे से प्रयोग करे |
*निबंध के मुख्य भाग में विषय को विस्तार दे और क्रमबद्ध तरीके से अपनी बात रखे |
*उपसंहार में अपनी बातों को तार्किक निष्कर्ष तक पहुचाये  और निबंध के निचोड़ को संक्षेप में सामने रखे |
*भाषा सहज-सरल और प्रवाहमयी हो |
*समसामयिक उदाहरणों, प्रेरक प्रसंग, प्रासंगिक लघुकथा, काव्यांश, सूक्ति-उद्धरण का समुचित प्रयोग करे | इनका प्रयोग निबंध के प्रवाह और प्रभाव को बढ़ाने वाला होना चाहिए | ऐसा नहीं लगना चाहिये की आप अपने पांडित्य का प्रदर्शन करने के लिए इन्हें ठूंसे जा रहे हैं |
*विवादस्पद विषय में संतुलित विचार रखे - विषय के दोनों पक्षों को सामने रखकर फिर अपने निष्कर्ष तर्क सहित रखे |
*संवैधानिक मूल्यों और देश के प्रति प्रेम और आदर का ध्यान रखे | आपके निबंधों का स्वर और निष्कर्ष नकारात्मक न हो, इसका भी ख्याल रखे | यदि आप किसे ऐसे विषय के बारे में लिख रहे हो जहाँ वर्तमान परिदृश्य बिलकुल नकारात्मक है, वहां भी सुधार कैसे लाया जा सकता है, उसको प्रधानता दे |

आप सबों को मेरी तरफ से ढेर सारी शुभकामनाएँ |

केशवेन्द्र कुमार, आईएएस