सोमवार, 3 अगस्त 2009

रणनीति की जरुरत

सिविल सेवा को निकालने की लिए जो सबसे जरुरी चीज है, वो है आपकी रणनीति। यह ऐसी परीक्षा है जिसे आप किसी के सहारे नही उत्तीर्ण कर सकते। आपका आत्मविश्वास, आपकी इच्छा-शक्ति, आपकी अन्तः-प्रेरणा ही आपको सफलता तक ले जा सकती है। इस सेवा को निकलने के पीछे अगर आप कोई बड़ी प्रेरणा ले कर चल रहे हैं तो वो जरुर आपको मदद पहुंचायेगी। यह प्रेरणा अपने माता-पिता को ख़ुशी देने की हो सकती है, समाज सेवा की हो सकती हैं, देश के लिए कुछ करने की हो सकती है, अपने आपको समाज की नजरों में साबित करने की जरुरत की की हो सकती है, या फ़िर अपने प्रेम को पाने की हसरत आपको इस सेवा को निकालने को प्रेरित कर सकती है।

चलिए, अब ठोस सुझावों पर आया जाए। आपकी रणनीति तो आपको ख़ुद बनानी है, मैं बस कुछ सुझाव दे रहा हूँ-

*एक नोट बुक ले कर उसमे आप सिविल सेवा के बारे में आपको जो भी जानकारी पत्र-पत्रिकाओं से या सफल लोगों के साक्षात्कार से या इन्टरनेट से  मिलती है, उसे नोट करते चले। जानकारी प्रासंगिक होनी चाहिए।

*यूपीएससी की वेबसाइट http://www.upsc.gov.in/ को अपने ध्रुवतारे की तरह व्यवहार करे | इस वेबसाइट से एग्जामिनेशन खंड में जाकर परीक्षा की नोटिफिकेशन और सुधार को ध्यान से पढ़े और डाउनलोड कर ले  यदि आपके पास रोजगार समाचार का समबद्ध अंक नहीं है | इसके साथ ही इस वेबसाइट से पिछले साल के प्रश्नपत्र और उनके उत्तर (कुछ ही पत्रों के लिए उपलब्ध ) को देखे | यह आपको इस परीक्षा के बारे में सबसे प्रामाणिक  जानकारी प्राप्त करने में मदद करेगा |

*परीक्षा के सिलेबस एवं क्वेश्चन बैंक को अपने कंपास की तरह व्यव्हार करे जो आपको सिविल सेवा की तैयारी की भटकन भारी राह में दिशाबोध कराएगा |

*अपने ऑप्शनल विषय को पुरी सतर्कता के साथ अपनी रूचि, पाठ्य-सामग्री की उपलब्धता, प्रश्नों की प्रकृति, स्कोरिंग जैसे मुद्दों को ध्यान में रख कर चुने। सुझाव सबसे ले पर करे अपने मन की। हमेशा ध्यान रखे की विषय महत्वपूर्ण नही है, महत्वपूर्ण है आपकी उसपर पकड़ और आपकी सफलता।

नए पैटर्न के अनुसार अब आपको एक ही वैकल्पिक विषय चुनना है, अतः वही विषय चुने जिसपर आपकी अच्छी पकड़ हो या जिसमें आपकी रूचि हो |

*प्राम्भिक और मुख्य परीक्षा के हर अंग के लिए अपनी रणनीति तैयार करे, देखे की आपकी मजबूती क्या है, आपकी कमजोरी क्या है। अपनी मजबूतियों पर ध्यान केंद्रित कर अपनी रणनीति बनाये और अपनी कमजोरियों को धीरे- धीरे घटाते हुए उन्ही भी अपनी मजबूतियों में बदलने का प्रयास करे।

*उदहारण के लिए मैं आपको अपनी रणनीति बता रहा हूँ, अपनी तैयारी के समय मैं रेलवे मैं कार्यरत था।( 2007-08) सो, मुझे कम समय में अपनी तैयारी पुरी करनी थी। मैंने प्राम्भिक परीक्षा में ऑप्शनल विषय पर अपना ध्यान केंद्रित करने की योजना अपनाई। मेरा लक्ष्य था की मुझे ऑप्शनल विषय में 300 में  225  और सामान्य अध्ययन में 150 कम से कम 75 अंक लाने हैं। प्राम्भिक परीक्षा के लिए 450 में  300 का लक्ष्य काफी सटीक और सुरक्षित लगा था मुझे। इसी तरह से आप अपने लिए भी लक्ष्य तय कर उसे प्राप्त कर सकते हैं।

परीक्षा के नए बदलावों  के अनुसार अब प्राथमिक परीक्षा में 200 अंकों का सामान्य अध्ययन का पत्र और 200 अंकों का सीसैट है | मुख्य परीक्षा में चार पत्रों का सामान्य अध्ययन 1000 अंकों का है और वैकल्पिक विषय के  500 अंकों के लिए दो पत्र हैं | इसके अलावा निबंध के 250 महत्तवपूर्ण अंक हैं | मुख्य परीक्षा में सफल होने पर 275 अंकों का साक्षात्कार है | इनमें आप सफल उमीदवारों के अंकों को देखते हुए अपने लक्ष्य निर्धारित करे |

*निबंध के लिए भी शुरू से ही तैयारी करते चले। सामान्य अध्ययन के काफी विषय जो सामाजिक मुद्दों से सम्बन्ध रखते हैं, को आप निबंध  के रूप में तैयार कर सकते हैं। इससे आपको इक पंथ,दो काज का फायदा मिलेगा | इक तरफ तो आप निबंध के लिए तैयार रहेंगे और दूसरी तरफ  सामान्य अध्ययन के कुछ विषय काफी गुणवत्ता के साथ तैयार हो जायेंगे |

*तैयारी करते हुए आपका पुरा ध्यान मुख्य परीक्षा पर होना चाहिए। सिविल सेवा की परीक्षा के लिए आपकी परिस्तिथियों को मद्देनजर रखते हुए एक से दो वर्ष के समय की आवश्यकता होती है | इस समय में आपका ध्यान मुख्यतः मुख्य परीक्षा पर केन्द्रित होना चाहिये | प्राम्भिक परीक्षा के लिए परीक्षा के पहले के 6 महीने काफी हैं। वैसे यहाँ भी अपनी जरुरत के अनुसार जरुरी फेरबदल कर सकते हैं, पर इस बात का जरुर ध्यान रखे की प्राम्भिक परीक्षा  के पहले आप एक बार मुख्य परीक्षा की तैयारी  कर चुके हो। यह आपको जरुरी आत्मविश्वास  देगा।
*अपनी जरुरत के अनुसार  महत्वपूर्ण मुद्दों के लिए शोर्ट-नोट्स  तैयार करे | मैंने अपने तथा अन्य कई लोगों के अनुभव से देखा है कि अपने मौलिक संक्षिप्त नोट तैयार कर पढने वाले लोग हमेशा इस परीक्षा में एडवांटेज में रहते हैं |


शुभकामनाओं के साथ,

केशवेन्द्र कुमार, आईएएस

5 टिप्‍पणियां:

  1. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    उत्तर देंहटाएं
  2. good advices ,no doubt.keep writing.
    Or you yourself preparing for IAS?
    give some specific advices for sure success in civilservcice through HINDI medium.
    Dr.Bhoopendra

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुझे आपके इस सुन्‍दर से ब्‍लाग को देखने का अवसर मिला, नाम के अनुरूप बहुत ही खूबसूरती के साथ आपने इन्‍हें प्रस्‍तुत किया आभार् !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं