शनिवार, 8 जुलाई 2017

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए समाज शास्त्र की पुस्तक सूची


साथियों, समाजशास्त्र हिंदी माध्यम से सिविल सेवा की तैयारी करने वालों के लिए एक लोकप्रिय वैकल्पिक विषय रहा है | यह विषय उन छात्रों के लिए हैं जो समाज और सामाजिक मुद्दों से गहरा ताल्लुक रखते हैं, समसामयिक सामाजिक मुद्दों में गहरी रूचि रखते हैं, समाज की जटिलताओं को समझकर सामाजिक समस्याओं के समाधान सुझाना चाहते है | यह वैकल्पिक विषय मुख्य परीक्षा के सामान्य अध्ययन पत्र एवं निबंध पत्र के लिए भी काफी उपयोगी है |

इग्नू की BA एवं MA की समाजशास्त्र की पुस्तकें इस विषय की तैयारी के लिए एक अच्छा आधार प्रदान करती है | इस विषय की हिंदी माध्यम में उपलब्ध कुछ स्तरीय पुस्तकों की सूची मैं यहाँ पर दे रहा  हूँ | यह सूची बस सांकेतिक है और कोई और अच्छी पुस्तक सामने आने पर वो इसमें जोड़ दी जायेगी | एक और बात याद रखे की आपको तैयारी सिविल सेवा के पाठ्यक्रम की करनी है, किताबों की नहीं | एक ही विषय पर कोई किताब आपको पढने में सरल लग सकती है और किसी को जटिल |  विषय के बारे में आधारभूत जानकारी के बाद उस विषय की किसी भी किताब को देखकर आप इस बात का निश्चय कर सकते हैं की वह किताब आपकी तैयारी के लिए आवश्यक है या नहीं |

प्रश्न पत्र १
इग्नू की BA एवं MA की समाजशास्त्र की पुस्तकें
समाजशास्त्र एक परिचय- सत्यपाल रूहेला- डायमंड पब्लिकेशन-
(१,२,३६,७,,८,९,)
समाजशास्त्र परिचय -संपादक- राम गणेश यादव एवं जे पी मिश्र - ओरिएंट ब्लैक स्वान पब्लिकेशन
(१,२,५,८,९,१०)
सामाजिक विचारक- एस एल दोषी, पी सी जैन- रावत पब्लिकेशन- जयपुर, दिल्ली
(मार्क्स, दुर्खीम, वेबर विस्तार से ) पत्र १ ४ क, ख, ग
उच्चतर समाजशास्त्रीय सिद्धांत- शम्भूलाल दोषी मधुसूदन त्रिवेदी- रावत प्रकाशन- जयपुर एवं नयी दिल्ली
(प्रश्न पत्र १- 1, २, ३, ४ आंशिक रूप से )
समाजशास्त्र- अवधारणाएँ एवं सिद्धांत - जे पी सिंह- प्रेन्टिस हॉल ऑफ़ इंडिया, नयी दिल्ली
(१,२, ५, १० )
सामाजिक विचारधारा एवं सामाजिक विचारक- डॉ गणेश पाण्डेय एवं अरुणा पाण्डेय



प्रश्न पत्र २
इग्नू की BA एवं MA की समाजशास्त्र की पुस्तकें

भारतीय समाज एवं विचार धाराएं - डी आर जाटव -नेशनल पब्लिशिंग हाउस- जयपुर, नई दिल्ली
(प्राचीन, मध्यकालीन, आधुनिक भारत का समाज चिंतन, राजनितिक आंदोलनों में सामाजिक प्रवृतियाँ, समाज चिंतन के समकालीन संप्रदाय,)

भारतीय समाज संरचना एवं परिवर्तन - सत्यपाल रूहेला- उत्तर प्रदेश हिंदी ग्रन्थ अकादमी
(जनसँख्या, धर्म, जाति प्रथा, जनजातियाँ, सामाजिक वर्ग, विवाह-परिवार- साम्पत्तिक अधिकार, शिक्षा, ग्रामीण और  नगर संस्था, शासक और शासित )

भारतीय सामाजिक संरचना एवं परिवर्तन के एल शर्मा- रावत पब्लिकेशन- जयपुर एवं नयी दिल्ली
(भारतीय समाज, उद्भव, सामाजिक आन्दोलन, जनजाति, ग्रामीण एवं नगरीय समुदाय , परिवार, जाति, नारी, जनसँख्या, सामाजिक परिवर्तन )

हाशिये की वैचारिकी-  संपादक- उमाशंकर चौधुरी- अनामिका प्रकाशन- दिल्ली
(जाति, दलित, जनजाति प्रश्न )

शुभकामनाओं के साथ,
केशवेन्द्र कुमार आईएएस 

3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर आप की लेख बहुत अच्छा है सभी लेख


    https://shitalrcsgyan.com

    उत्तर देंहटाएं