बुधवार, 11 दिसंबर 2013

हिंदी माध्यम में सिविल सेवा की स्तरीय किताबों की तलाश

सिविल सेवा की तैयारी हिंदी माध्यम से करने वाले अभ्यर्थियों के सामने सबसे बड़ा सवाल किताबों की उपलब्धता का होता है | सामान्य अध्ययन के लिए तो अब ढेर सारी स्तरीय पुस्तकें उपलब्ध हैं मगर वैकल्पिक विषय में अच्छी किताबों के चयन में छात्रों को परेशानी आती है | वैसे भी अच्छी पुस्तकें तलाशनी पड़ती है | एक ही विषय पर उपलब्ध ढेर सारी किताबों में से आपके लिए कौन सबसे अच्छी रहेगी, ये तो आपको खुद ही जांचना-परखना पड़ेगा |

इस आलेख में मैं आपके साथ हिंदी माध्यम में उपलब्ध विभिन्न प्रकाशनों की स्तरीय किताबें शेयर करने की विनम्र कोशिश कर रहा हूँ | हिंदी माध्यम में उपलब्ध पुस्तकों की विषयवार सूची का अभाव इस आलेख की प्रेरणा है | आप सभी अभ्यर्थी भी विषयवार पुस्तकों के बारे में अपने सुझाव और अनुभव यहाँ बांट सकते हैं |

साथ ही आप सबों को मेरी सलाह रहेगी कि पुस्तक मेलों और अपने आस-पास उपलब्ध अच्छे पुस्तकालयों का जमकर प्रयोग करें | एक ही विषय पर दो-तीन लेखकों को पढना आपके ज्ञान और विचार को गहराई और गंभीरता देगा |

१. हिंदी माध्यम क्रियान्वयन निदेशालय की पुस्तकें -
दिल्ली विश्वविद्यालय के इस अंग ने हिंदी माध्यम में स्तरीय पुस्तकें उपलब्ध करने में अहम् भूमिका निभायी है | मानविकी के लगभग सारे विषयों में इनकी स्तरीय पुस्तकें उपलब्ध हैं | खासकर इतिहास और राजनीति शास्त्र विषय में इनकी पुस्तकों का जवाब नहीं |
इनकी नई पुस्तक सूची के लिए इस लिंक को खोले-
http://www.du.ac.in/index.php?id=110

इस प्रकाशन की सबसे उल्लेखनीय पुस्तकें हैं-
इतिहास वैकल्पिक विषय
आधुनिक विश्व का इतिहास - लालबहादुर वर्मा
प्राचीन भारत का इतिहास - झा एवं श्रीमाली
मध्यकालीन भारत भाग एक एवं दो- संपादक हरिश्चंद्र वर्मा
आधुनिक भारत का इतिहास- संपादक रामलखन शुक्ल
(इतिहास खंड की अन्य पुस्तकें भी इस विषय की गहन तैयारी के लिए देखी जा सकती है |)
राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय हेतु 
राजनीति सिद्धांत -संपादक ज्ञान सिंह संधू
बदलती दुनिया में भारत की विदेश नीति भाग एक एवं दो - वी पी दत्ता
भारत में उपनिवेशवाद एवं राष्ट्रवाद- संपादक हिमांशु राय
संयुक्त राष्ट्र संघ - नीना शिरीष
नारीवादी राजनीति- संघर्ष एवं मुद्दे - संपादक- साधना, विवेदिता एवं जिनी
पाश्चात्य राजनीतिक चिंतन - सुब्रत मुख़र्जी एवं सुशीला रामास्वामी
भारतीय संसद-समस्याएँ एवं समाधान - सुभाष कश्यप
सामान्य अध्ययन हेतु
आजादी के बाद का भारत - विपिन चन्द्र, मृदुला मुख़र्जी, आदित्य मुख़र्जी

२. इग्नू की BA एवं MA की पुस्तकें
 सिविल सेवा के वैकल्पिक विषयों की हिंदी माध्यम में तैयारी के लिए इग्नू के पुस्तकों की महत्ता सर्वविदित है | विषय विद्वानों की उत्कृष्ट टीम द्वारा तैयार किये गए इनकी किताबें सिविल सेवा की तैयारी के बिंदु से काफी महत्त्वपूर्ण है | साथ ही हर विषय की पुस्तिका में उस विषय के सारे उत्कृष्ट सन्दर्भ ग्रंथों की सूची उपलब्ध है | इग्नू की पुस्तकें आप इग्नू के दिल्ली ऑफिस से खरीद सकते हैं | इग्नू की पुस्तकें पीडीऍफ़ फॉर्मेट में इन्टरनेट पर फ्री उपलब्ध है | लिंक है -
http://www.egyankosh.ac.in/

3. एस. चाँद प्रकाशन की पुस्तकें -
 इस प्रकाशन ने सामान्य अध्ययन और सी सैट पेपर के लिए हिंदी माध्यम में काफी अच्छी पुस्तकें प्रकाशित की है | यशपाल एवं ग्रोवर की 'आधुनिक भारत का इतिहास' जैसी पुस्तकों ने तो वाकई इतिहास ही रचा है | पुस्तक सूची के लिए लिंक देखे -
http://www.schandgroup.com

सामान्य अध्ययन हेतु-
आधुनिक भारत का इतिहास - यशपाल एवं ग्रोवर
सरल अंकगणित- आर एस अग्रवाल
भारतीय अर्थव्यवस्था - अश्विनी महाजन एवं गौरव दत्त
हिंदी भाषा एवं साहित्य पत्र हेतु -
हिंदी लोकोक्तियाँ एवं मुहावरे- बाबू  गुलाब राय


4. टाटा मैकग्रा हिल प्रकाशन -
 इस प्रकाशन की हिंदी माध्यम की पुस्तकें प्रारंभिक परीक्षा एवं मुख्य परीक्षा के सामान्य अध्ययन पत्र  की तैयारी के लिए काफी उपयोगी है | लक्ष्मीकांत की राज्यव्यवस्था एवं पुष्पेश पन्त की अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध जैसी काफी अच्छी पुस्तकें इस प्रकाशन ने दी है | पुस्तक सूची के लिए इस लिंक को देखे |
http://www.tmhshop.com/test-prep/civil-service-examination-hindi

सामान्य अध्ययन पत्र हेतु-
भारतीय शासन - एम लक्ष्मीकांत
भारत एवं विश्व का भूगोल - माजिद हुसैन
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का विकास - शीलवंत सिंह
21 वीं शताब्दी में अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध - पुष्पेश पन्त
भारत की विदेश नीति- पुष्पेश पन्त

लोक प्रशासन वैकल्पिक विषय हेतु
समग्र लोक प्रशासन - माहेश्वरी
21 वीं शताब्दी में लोक प्रशासन - दुबे
प्रशासनिक विचारधाराएँ- दुबे

राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय हेतु-
राजनीति विज्ञान - एन डी अरोरा

समाज शास्त्र वैकल्पिक विषय हेतु-
समाज शास्त्र - पांडे

भूगोल वैकल्पिक विषय हेतु-
भूगोल सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए- खुल्लर
भौगोलिक मानचित्रावली - हुसैन



५.उपकार  प्रकाशन की पुस्तकें -
 इस प्रकाशन की पत्रिका प्रतियोगिता दर्पण ने सिविल सेवा के हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों का लम्बे समय से मार्गदर्शन किया है | इस प्रकाशन की किताबें सामान्य अध्ययन पत्र के लिए काफी उपयोगी है |
http://upkar.in/books.aspx?SCID=29

भारतीय अर्थव्यवस्था अतिरिक्तांक
कला एवं संस्कृति अतिरिक्तांक

६. प्रकाशन विभाग की पुस्तकें -
 भारत सरकार के अधीन इस संस्थान की पत्रिकाएँ योजना और कुरुक्षेत्र सिविल सेवा की तैयारी के लिए अपरिहार्य है | साथ ही इसकी कुछ अन्य पुस्तकें जैसे 'आधुनिक भारत के निर्माता' श्रृंखला की पुस्तकें, संत कवि एवं गाँधी जी से जुडी पुस्तकें  सामान्य अध्ययन और निबंध पत्र के लिए उपयोगी है |
http://www.publicationsdivision.nic.in/Hindi/380HindiBooks.pdf


७. प्रतियोगिता साहित्य प्रकाशन -
 राजनीति विज्ञान, लोक प्रशासन, भूगोल, समाज शास्त्र, अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध जैसे विषयों पर इस प्रकाशन की पुस्तकें वैकल्पिक विषय की तैयारी के साथ सामान्य अध्ययन एवं निबंध पत्र की तैयारी के लिए भी काफी उपयोगी है |
http://www.psagra.in/product-category/iaspcs-mains-exam/ias-hindi/

सामान्य अध्ययन के लिए-
भारतीय शासन एवं राजनीति - फड़िया

राजनीति विज्ञान वैकल्पिक विषय हेतु-
अंतर्राष्ट्रीय राजनीति - बी एल फडिया

लोक प्रशासन वैकल्पिक विषय हेतु
भारत में लोक प्रशासन - बी एल फडिया
भारतीय प्रशासन - बी एल फडिया

समाज शास्त्र वैकल्पिक विषय हेतु-
समाज शास्त्र - प्रो.एम एल  गुप्ता एवं डॉ डी डी शर्मा

भूगोल वैकल्पिक विषय हेतु-
भारत का बृहत् भूगोल -डॉ चतुर्भुज मामोरिया


८.  अरिहंत प्रकाशन 
 इस प्रकाशन ने सामान्य अध्ययन के प्रारंभिक पत्र के लिए कुछ अच्छी पुस्तकें प्रकाशित की है | इस प्रकाशन के द्वारा प्रकाशित प्रारंभिक परीक्षा के क्वेश्चन बैंक अवश्य खरीदने योग्य है |
http://www.arihantbooks.com/Store/1/5/Entrance-Exam/Civil-Services

९. सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल 
 इस प्रकाशन की पत्रिका सिविल सेवा की तैयारी के लिए काफी उपयोगी है | इस प्रकाशन की कुछ पुस्तकें भी सामान्य अध्ययन पत्र की तैयारी के लिए काफी महत्तवपूर्ण है | इस प्रकाशन के हल किये हुए मुख्य परीक्षा के क्वेश्चन बैंक अवश्य खरीदने योग्य  है | सिविल सर्विसेज प्लानर भी नए अभ्यर्थियों के लिए उपयोगी है |
http://www.chronicleindia.in/our-books

10. पुस्तक महल -
 इस प्रकाशन की हिंदी माध्यम की कुछ पुस्तकें सामान्य अध्ययन पत्र तथा आपकी हॉबी  की तैयारी के लिए उपयोगी है | हालाँकि काफी सतर्क चयन की जरुरत है क्योंकि किताबों की भरमार से उपयोगी किताब ढूँढने में काफी श्रम लगता है |
http://www.pustakmahal.com/books/

११. स्पेक्ट्रम प्रकाशन -
इस प्रकाशन की पुस्तकें सामान्य अध्ययन पत्र के लिए उपयोगी है |
http://spectrumbooks.in/books/hindi/

१२. कम्पीटीशन सक्सेस रिव्यु -
 इस प्रकाशन की पत्रिका निबंध एवं साक्षात्कार की तैयारी के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण है | साक्षात्कार के लिए इस प्रकाशन की पुस्तक काफी अच्छी है |
http://www.competitionreview.in/publication.php

१३. वाणी प्रकाशन
 निबंध पत्र के लिए इस प्रकाशन की पुस्तकें काफी उपयोगी है |
http://vaniprakashanblog.blogspot.in/

१४. राजकमल प्रकाशन
 हिंदी साहित्य और निबंध पत्र की तैयारी के लिए काफी उपयोगी पुस्तकें उपलब्ध |
http://www.rajkamalprakashan.com/

१५. साहित्य अकादमी -
हिंदी साहित्य के विद्यार्थियों के लिए इस प्रकाशन की पुस्तकें विशेषकर 'साहित्य निर्माता' सीरीज की पुस्तकें काफी काम की है |
http://sahitya-akademi.gov.in/

16. जवाहर पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रिब्यूटर्स
लोक प्रशासन
- लोक प्रशासन के नए आयाम - मोहित भट्टाचार्य
http://www.jawahar-book-centre.com/

17. बिहार हिंदी ग्रन्थ अकादमी
बिहार हिंदी ग्रन्थ अकादमी का एक गौरवशाली इतिहास रहा है | हिंदी भाषा में मौलिक पुस्तकें प्रकाशित करने में यह संस्था अग्रगण्य रही है | वर्तमान थोडा ढीला-ढाला है और अपनी गौरवशाली परम्परा की छाया भर नजर आता है | खैर, इस अकादमी के पुराने प्रकाशन भी यदि अद्यतन किये जाये और विद्यार्थियों को मिलते रहे, वह भी काफी महत्तवपूर्ण है |
अकादमी की संपूर्ण पुस्तक सूची इस लिंक पर उपलब्ध है-
http://bhga.co.in/booklist.php
इस अकादमी के द्वारा प्रकाशित पुस्तकों में हिंदी भाषा एवं  साहित्य, राजनीति एवं लोक प्रशासन, दर्शनशास्त्र , कृषि विज्ञान , पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान, रसायन शास्त्र , अर्थशास्त्र , वाणिज्य एवं लेखाविधि, मनोविज्ञान, समाजशास्त्र, प्राणी विज्ञान की पुस्तकें सिविल सेवा के वैकल्पिक विषय के पत्र की तैयारी में  उल्लेखनीय हैं |

१८. उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान -
यह भी गौरवशाली इतिहास वाला संस्थान रहा है | कभी- कभी तो लगता हैं की इन संस्थाओं के कालक्रमेण ह्रास ने हिंदी भाषा को क्षति पहुचाई है | खैर, अभी भी वक्त है की इन संस्थाओं पर ध्यान देकर इन्हें हिंदी भाषा में उत्कृष्ट पुस्तकों को सर्वसुलभ बनाने का केंद्र बनाया जाए |
http://uphindisansthan.in/Sales/BookList.htm


१९. मध्य प्रदेश हिंदी ग्रन्थ अकादेमी -
http://mphindigranthacademy.org/Book/Frm_Book_BookPublication.aspx
दर्शनशास्त्र, राजनीतिविज्ञान , समाजशास्त्र, लोक प्रशासन,  विधि, भूगोल, कृषि, पशुपालन तथा पशु चिकित्सा विज्ञान आदि वैकल्पिक विषयों के लिए शानदार पुस्तकों का संग्रह |

२०. राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी-
http://www.rajhga.com/zz/ZlistBooks.aspx
हिंदी भाषा और साहित्य वैकल्पिक विषय, दर्शन, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, भौतिकी, सांख्यिकी, गणित, रसायन शास्त्र, कृषि विज्ञान, पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान इन वैकल्पिक विषयों की तैयारी में संस्थान की पुस्तकें उपयोगी हैं |

२१. मोतीलाल बनारसीदास प्रकाशन-
http://www.mlbd.com/Admin/Catalogue/Catalogue.pdf
दर्शनशास्त्र, इतिहास, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, संस्कृत भाषा एवं साहित्य,आयुर्विज्ञान जैसे वैकल्पिक विषयों के लिए यह रामबाण प्रकाशन है | पुस्तकों की गुणवत्ता के मामले में यह एक बहुत ही सजग प्रकाशन है |

साथियों, हिंदी माध्यम में सिविल सेवा की तैयारी के लिए पुस्तकें प्रकाशित करने वाले प्रमुख प्रकाशकों की प्रारंभिक सूची मैंने आप लोगों के सामने अपने सीमित ज्ञान के आधार पर रखी है | कुछ अन्य महत्तवपूर्ण प्रकाशन जो यहाँ आने से रह गए हैं, उन्हें मैं  धीरे-धीरे विस्तृत विवरण के साथ आप लोगों के सामने लाने की कोशिश करूँगा | साथ ही सारे प्रकाशनों से सबसे अच्छी पुस्तकों के बारे में भी थोड़े और विस्तार से लिखूंगा | आप लोगों से भी अनुरोध है की आप अपने सुझाव भेजे |  हिंदी साहित्य के वैकल्पिक पत्र के लिए ढेर सारे साहित्यिक प्रकाशन हैं जिनकी चर्चा मैं अपने एक अलग आलेख में करूँगा |

हंस की तरह नीर-क्षीर विवेक से अपने लिए सबसे उत्तम पुस्तकों का चयन करे | अगर आपने अच्छी पुस्तकों को अपना मित्र बनाया तो जीवन भर सफलता आपकी संगिनी बनी रहेगी और आप जीवन के हर पड़ाव से हँसते-मुस्कुराते गुजरेंगे |

सफलता की शुभकामनाओं के साथ,
केशवेन्द्र कुमार, आईएएस

67 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद सर, मै आप से स्तरीय हिन्दी समाचार पत्र के बारे मे पूछना चाहता हूँ । सामान्यतः अंग्रेजी अखबार 'द हिन्दू' का रेफरेन्स दिया जाता है, तो हमें अंग्रेज़ी अखबार 'द हिन्दू' पढ़ना चाहिये या कोई अन्य हिन्दी अखबार?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. किशन जी, अगर अभ्यर्थी हिन्दू पेपर को आधे से एक घंटे में पढ़ कर उससे काम की चीज निकाल सके तो ठीक नहीं तो इस पेपर पर तीन-चार घंटे माथा खपाने से अच्छा है की आप हिंदी के एक स्तरीय पेपर के साथ पत्रिकाओं यथा इंडिया टुडे, आउटलुक आदि पर फोकस करे | हिंदी में अभी हिंदुस्तान, दैनिक जागरण, अमर उजाला, दैनिक भास्कर, राजस्थान पत्रिका जैसे अच्छे पेपर हैं | इनमे से कोई एक काफी है |

      हटाएं
  2. sir,mene B.A.46 % se ki hai.kya me IAS exam ki tayari kar sakata hu.plz suggest me sir

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. YES, pass mark in graduation is sufficient for appearing in this exam.

      हटाएं
    2. आपका बहुत बहुत धन्यवाद.......सर आप हिंदी माध्यम से जो आईएएस बनना चाहते हैं उनके लिए गुरु हैं......फिर से बहुत बहुत धन्यवाद.....

      हटाएं
  3. sir bpsc ke form nd paper aane wale h uske bare me kuch btao

    उत्तर देंहटाएं
  4. Sir apse Milne ke bad mujhe yakin ho gaya h ki hum jaise Hindi medium m tyari Karne walo ke liye aap kisi guru se km nhi h .sir. bina tuition ke ias nikalne ke liye aap jaise mahan guru ka intezar tha jo shayad ab samapt hota nazar aa raha.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Sir bharat ki rajyavyastha 4th edition ki.mil rhi 3rd edition ki nhi.sir prarambhik pariksha ke liye kitabo ki suchi jarur bataye. Sir quallify exam m English wale paper ke liye kuch jarur bataye Kaise tyari ki jaye
    Dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  6. सर आप के इस महान काम के लिए सब से पहले धन्यवाद.मेरा तो बस यही कहना है की आप हिंदी माध्यम के अभ्यार्थी के लिए उस किरण-पुंज के सामान हैं,जो अँधेरा कमरा को प्रवेश करते ही रोशन कर देती है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. sir nibandh kis shaili mein likha jata hai iss exam mein mei yah janna chahta hu kya sutra shaili sahi hogi ya mukt roop se likha jaye

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शान्तनु, इन दोनों में से जो शैली आपको अपने व्यक्तित्व और विचारों की अभिव्यक्ति के लिए सही लगती है, आप उसका प्रयोग कर सकते हैं | निबंध पर आपके व्यक्तित्व की छाप होनी चाहिए |

      हटाएं
  8. sir samanya adhyayan ke kis patra ke liye kon si putaken padhin jaye kripya batane ka kasht karen jinse sare topics cover hote ho
    dhanyawad sir apke iss apurva yogdan ke liye.........
    namaskar

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सामान्य अध्ययन की पुस्तक सूची इस ब्लॉग के पुराने पोस्ट में उपलब्ध है |

      हटाएं
    2. dhanywad sir dhund li thi maine use aur usse kaafi help bhi mili...

      हटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. नमस्ते सर आपके दवारा दिया गया पुस्तक प्रकशन लिस्ट में से शिर्फ़ 1-1 पुस्तक का चयन करना है ?और किस पप्रकार करू हेल्प कर दीजिये......मेरे को पुस्तक लेने हैI पुस्तक चयन में भारी परेसानी हो रहा है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सिलेबस के एक खंड के लिए शुरुआत में कोई एक पुस्तक काफी है |

      हटाएं
  11. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जीवन में आगे बढ़ने के लिए कठिन परिश्रम की जरुरत होती है ये बात सत्य है लेकिन उससे भी सत्य यह है कि सफलता केवल मेरी अकेले की है तब तो वो व्यक्ति कभी सफल नहीं हो सकता लेकिन ठीक इसके विपरित सफलता को मेरी की बजाय हमारी कहे तो ही सफलता का सही अर्थ प्रयुक्त होगा और व्यक्ति सफल भी होगा। लेकिन यहाँ पर हमारी शब्द का मतलब हर एक व्यक्ति से मितव्यता के साथ रहकर ,शब्दों की वाणी ने मधुरता का रस भरकर अपनी सफ़लता में सबका साथ लेकर चले। साथ ही हर व्यक्ति के साथ मित्रता रखकर आगे बढे ताकि सफलता और भी महत्वपूर्ण हो जाए। मेरा तो यही मानना है कि जीवन चुनोतियों से भरा जरुर है पर किसी के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाकर भी क्या हम आगे बढ़ पाएंगे, बिलकुल नहीं।किसी से भी झगडा न करना ,हर छोटी से छोटी गलती के लिए यदि तुरंत क्षमा भी मांग ली जीये तो क्या बुरा है। कम से कम लोग हमारे आपसी झगड़े का गलत दायादा तो नहीं उठा पाएंगे । आखिर संसार में जीना भी कितना है। यह शरीर तो वेसे भी नाशवान है उसे तो मिट्ठी में मिल ही जाना है। आखिर इश्वर सत्य है और "प्रेम ही तो इश्वर है"। इसीलिए किसी भी प्रकार का वैमनस्य किसी के प्रति रखना ये अच्छे गुणी व्यक्ति को सोभा नहीं देता ।मैं तो बस इतन जनता हूँ कि हमें यदिआगे बढ़ते रहना है तो आपसी भाईचारे की भावना को दिलो में कायम रखकर एक दुसरे के प्रति विश्वास को बढ़ना होगा। और जीवन में एक दुसरे के विश्वास पर खरा उतरकर सबके साथ अच्छे व्यव्हार का प्रमाण देना होगा। जहां तक मेरी सोच कहती दुनिया में जीना तो चार दिन के लिए फिर एक दुसरे के प्रति बुराई/कटुता क्यूँ आखिर 4 दिन के जीवन को अच्छे कर्मों के अनुसारढाला जाए तो यह शत्रुता हमारे आसपास भी नहीं भटकेगी और जब सफलता मिलेगी तो वो खुशी मेरी नहीं हम सबकी होगी। तभी खुशियों के दीपक हर घर घर में चमकेंगे और प्रकाश को फैलायेंगे। वैसे सफलता में एक की ख़ुशी ही सफल होने में बाधक है। अतः जीना है सब की खुशियों के लिए , कुछ करना है तो सबके हितो के लिए। तभी वो जीवन वाकई में सफल मान्य होगा। किसी की बुराइयाँ करने से तो हम और भी कमजोर हो जायेंगे। आप सभी में प्रेम यूँही बरसता रहे आप सब की खुशियों के साथ आपका सुभेच्छु -विजय

    लेख में कुछ गलतियाँ हो गयी हो तो माफ़ी चाहता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. sir upse mains me essay likhne ke liye keise taiyari ki jaye? please suggest me

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. http://iashindi.blogspot.in/2009/08/blog-post_12.html

      हटाएं
    2. सर हिन्दी साहित्य की बुक बताये ऑप्शनल के लिए

      हटाएं
    3. सर हिन्दी साहित्य की बुक बताये ऑप्शनल के लिए

      हटाएं
    4. सर हिन्दी साहित्य की बुक बताये ऑप्शनल के लिए

      हटाएं
  14. Sir ucch paramarsh k liye aapka bahut bahut Dhanyawaad. Sir main civil engg background Se hoon. Sir mains m history optional lena chahta hoon. Es vishay meri vishesh ruchi hn. Pr sir ek bhay hn ki esse koi nakaratmak prabhav to nhi hoga? Sir history mains k liye aapka margdarshan chahta hoon. Aap hindi medium k liye vardan hn. Aapke es bahumulya margdarshan k liye bahut bahut Dhanyawaad sir.

    उत्तर देंहटाएं
  15. Sir ucch paramarsh k liye aapka bahut bahut Dhanyawaad. Sir main civil engg background Se hoon. Sir mains m history optional lena chahta hoon. Es vishay meri vishesh ruchi hn. Pr sir ek bhay hn ki esse koi nakaratmak prabhav to nhi hoga? Sir history mains k liye aapka margdarshan chahta hoon. Aap hindi medium k liye vardan hn. Aapke es bahumulya margdarshan k liye bahut bahut Dhanyawaad sir.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Hello sir,
    I'm Shivam from MP.My question is that Is it necessary to take coaching for IAS exam from 12th? What is the right time to think about coaching and preparation?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. http://iashindi.blogspot.in/2009/11/blog-post.html
      Shivam, you can see blog link for article on coaching. You can start reading newspaper and magazine and making your foundation now. Serious preparation from final year is sufficient.

      हटाएं
  17. Namaste mahoday,
    . ethics, integrity & aptitude se sambandhit prashnapatra Ki taiyari ke liye Hindi madhyam me uplabdh pathya-samagri Ki jankari dene Ki kripa kare.

    उत्तर देंहटाएं
  18. sir abhi main Bcom kar raha hu aur baad me IAS ke liye taiyaari karna chahta hu
    usme Philosophy optional lena chahta hu lekin Philosophy ki paribhasha bhi muje nahi aati to iska base taiyaar karne ke liye main konsi Book ka istemaal karu
    sir please batane ka kasht kare kaiyo ko puch chuka hu santusht nahi hua

    aap bataiye .........................

    उत्तर देंहटाएं
  19. sir ignou link not working formany days-i countinue in touch from 4-5 month

    उत्तर देंहटाएं
  20. Dear Sir Ji
    ..Can U Send Me list Of IAS Books
    HIndi Medium
    All including ( Pre +Mains )


    Mai aapke Blog par gya tha lkain ..kuch Clear Nhai mil pya Books ke rfrns
    So plz aap mujhe Jo jaruri books hai unke naam Aur Writer ke nam bhjne ka kast karen
    please Sir …kuarvind101@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. Sir mera name Anand hai, Mai aapke village se hi belong karta hun, aap hum jaise youth ke liye rollmodal ho,Mai delhi NIHFW me LDC hun. Mai abhi CS ki taiyari suru hi ki hai, abhi maine NCERT 6th books se hi suruaat ki hai kya Self SET Practice uchit rahega, Or new syllabus ke anusar English ke liye kitna time dena hoga

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. bahut-bahut swagat hai Anand ji aapka. English par achhe communication ke liye pakad hona kafi hai |

      हटाएं
    2. नमस्कार सर,सर कृप्या हिंदी माध्यम में लोक प्रशासन की किताब बताएं

      हटाएं
  22. Sir mera name Anand hai, Mai aapke village se hi belong karta hun, aap hum jaise youth ke liye rollmodal ho,Mai delhi NIHFW me LDC hun. Mai abhi CS ki taiyari suru hi ki hai, abhi maine NCERT 6th books se hi suruaat ki hai kya Self SET Practice uchit rahega, Or new syllabus ke anusar English ke liye kitna time dena hoga

    उत्तर देंहटाएं
  23. sir India's Struggle for Independence by bipin chandra ka hindi version kha se mil sakta hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. sir is it necessary to get a decent job before going for the preparations of upsc civil Services . please reply sir

    उत्तर देंहटाएं
  25. namastey!!! main akanksha anubhuti teacher d a v public school, thawe bihar se hun. main sitamadhi me hi padhi hu. maine ab ek mahine se i a s ki taiyari suru ki h. job ki wajah se tym bahut hi km mil pata h aur bahut jaldi thakne v lgti hu magar mera junun mujhe thakne nahi deta. maine march k pratiyogita darpan me apka lekh padha aur usi pal se main ek naye mission me lg gyi.. av maine ek mahine me bs ek rajvyavstha ki taiyari ki h laxmikant g ki pustak se... form aa chuka h aur exam ka date v.main janti hu ki safalta ka koi shortcut nahi hota magar sutra jarur hote h. main apse yahi kahna chahti hu k mujhe es pariksha k naye pattern aur 2-3 mahine me acchi se acchi taiyari k liye salah de. sath hi main right hand se wiklang hu aur thoda sa left hand se v. to kya main i a s k layak hu. aur yadi hu to mujhe kta sueidhayen milengu kripya btaye...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Aakansha ji, please update me about your performance and your experience of this year's examination.

      हटाएं
  26. kya mai upsc mains me hindi sahitya ko optional me lene ke baad hindi ko compulsary language ke roop me bhi le sakta hun?

    उत्तर देंहटाएं
  27. Sir bpsc k liy kon sa book paru.maine ignou se history m ma kiya h

    उत्तर देंहटाएं
  28. Sir bpsc k liy kon sa book paru.maine ignou se history m ma kiya h

    उत्तर देंहटाएं
  29. Sir.please suggest me a good book for sociology subject in Hindi mediuam

    उत्तर देंहटाएं
  30. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. सर मेरी आयु २९ साल है , मैंने हाई स्कूल और इंटरमीडिएट यू. पी. बोर्ड से किया है। हाई स्कूल मैं ६२% से और इंटरमीडिएट ५९% से पास की है. आगे ग्रेजुएशन लेवल पे मैं दूरस्थ शिक्षा BCA ६५% से किया हू। क्या मैं आईएएस परीक्षा में बैठ सकता हूँ? क्या मैं आईएएस परीक्षा की तयारी कर सकता हु ? कृपया सुझाव दीजिये सर।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सामान्य अध्ययन हेतु पर्यावरण के लिए आप पुस्तकों की सूची बताइए धन्यवाद

      हटाएं
  32. Keshvendraji namaskar... mera ladaka s.y( b.s.c) me abhyas kar raha hai uska goal ias hai to usko kaunsi ias training center join karana chahiye jo hindi me taiyari karataho so replay me please...

    उत्तर देंहटाएं
  33. Keshvendraji namaskar... mera ladaka s.y( b.s.c) me abhyas kar raha hai uska goal ias hai to usko kaunsi ias training center join karana chahiye jo hindi me taiyari karataho so replay me please...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Vishram ji, Coaching ke bare me maine 2009 me ek aalekh vistar se likha tha. Ek bar yah jaanch kar le ki coaching ki jarurat hai ya nhi or tab aage ka nirnay le.

      हटाएं
  34. Sir it is necessary to read all word to word ARC and other reports. Can we read only recommendations ?

    उत्तर देंहटाएं
  35. सर वनस्पति शास्त्र के लिए हिंदी माध्यम की बुक्स के बारे में सजेस्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  36. सर,इतिहास को अच्छे एवं बेहतर तरीके से समझने तथा नोट्स बनाने के लिए ,सरल ट्रिक्स क्या है।।

    उत्तर देंहटाएं
  37. श्रीमान जी इतिहास,भूगोल व लोकप्रशासन में से कौनसा विषय चुनना अच्छा रहेगा।तीनो में ही रुचि है।अध्ययन सामग्री की उपलब्धता तथा पिछले टॉपर्स को प्राप्त अंको के आधार पर।कृपया मदद करे।धन्यवाद्।

    उत्तर देंहटाएं
  38. सर,उत्तर प्रदेश पी सी एस की मेन्स परीक्षा मे वैकल्पिक विषय गणित की हिन्दी माध्यम पुस्तक के लिए मार्गदर्शन चाहिए

    उत्तर देंहटाएं